मंगलवार, 13 जनवरी 2015

।। प्रेम-बीज ।।


















आँखें
प्रेम-बीज हैं
और
अधर ही बीज-मंत्र

अभिषिक्त
होती है देह
प्रणय-साधना के लिए ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें