।। आवाज ।।

























संपूर्ण देह को
एक नया शब्द चाहिए
आत्मा भी शामिल हो जिसमें
और दिखाई दे
जैसे देह में
दिखाई देती हैं आँखें

देह
आत्मा की जरूरत
नहीं समझती है ।

आत्मा का दुःख
सिर्फ आत्मा जानती है
और साँसों से कहती है
सिर्फ ब्रह्माण्ड के लिए ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। अंतरंग साँस ।।