।। बीजक ।।



















मेरी तासीर में
तुम्हारी ही हथेली है

मेरी आवाज में
तुम्हारी ही ध्वनि है

मेरी हथेली में
तुम्हारी ही गरमाहट है

मेरे स्पन्दन में
तुम्हारी ही आहटें हैं

मेरी लय में
तुम्हारा ही निनाद है

मेरी देह के बीजक में
तुम्हारा ही प्राण-बीज है

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। अंतरंग साँस ।।