सोमवार, 20 जनवरी 2014

।। सोन चिरैया ।।


















'पोयसी'
सूरीनाम की सोन चिरैया
सबाना रेत-माटी से
स्वर्ण को खोद निकालने वाली
मजदूरों से आँख चुरा
चुरा ले जाती है भूगर्भी दमकता स्वर्ण
जैसे किंगफिशर
पानी से चुरा लेता है मछली ।

सोन चिरैया 'पोयसी' के 
चुराए स्वर्ण के टुकड़ों से
चुराती हैं महिलाएँ स्नेह-स्वर्ण ।

अपने प्रवासी प्रिय की
मन की अँगूठी के लिए
'हीरे' की सगाई-अँगूठी
एक जगमगाती धवल तारिका ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें