।। अमिट ।।























प्रेम की कोई उम्र नहीं
सभी कहते हैं
कोई नहीं आँक सकता है
प्रेम की औसत आयु ...

प्रेम
सिर्फ़ उम्र-भीतर
रचाने आता है
रहस्यपूर्ण अनगिनत अनुभूतियाँ
अपने अनमिट चिन्ह

जो
ईश्वरीय हथेली की
विशिष्ट स्पर्श-छाया है
हृदय में अंकित
अमिट और अक्षय

अधर और स्पर्श
मौन और वाणी
देह-भीतर
गढ़ते हैं    नवल प्रणय गात
जिसे हम
'ईश्वर' पुकारते हैं

('भोजपत्र' शीर्षक कविता संग्रह से)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। सच ।।