मंगलवार, 15 नवंबर 2016

तीन छोटी कविताएँ

।। सिद्धी ।।

प्रेम
आत्मा का राग है
प्रिय
साधता है उसे
देह के वाद्ययंत्र में
प्रणय-सिद्धियों के निमित्त

।। दुर्गम देह ।।

दैहिक महाद्धीपी दूरियों के बावजूद
हार्दिक लहरें
स्पर्श कर आती हैं     चित्त-तट-बंध
और तब
मुक्त हो जाती है देह
देह-सीमा के
दुर्गम बंधनों से

।। रूपांतरण ।।

शब्दों में लीन
ध्वनियाँ
अर्थ में विलीन हो जाती हैं
अर्द्धांगिनी की तरह
जैसे
मैं तुममें

('भोजपत्र' शीर्षक कविता संग्रह से)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें