शनिवार, 19 नवंबर 2016

।। लय-विलय ।।

प्रेम में
साँसें समझ पाती हैं
साँसों की भाषा
जो हथेलियों से आँखों तक
एक हैं

मन-देह के बीच
अपनी लिपि में
अपने लय में
अपने शब्दों में
अपने अर्थ में
लय होती है विलय

एकांत में
राग की सुगंध
और सुगंध का अंगराग
लिप जाता है
मन वसुधा में

प्रणय
चाहता है
अपनी देह-गेह में
प्रिय का हस्ताक्षर
संवेदना की जड़ें
पसरती जाती हैं    भीतर ही भीतर
कि देह-माटी
पृथ्वी के समानांतर
अपना वसंत जीने लगती है

प्रणयाग्नि से तपी देह
हो जाती है स्वर्ण-कलश
अमृत से पूर्ण

प्रणय
देह के ईश्वरीय चौखट पर
समर्पित करता है     अपना सर्वस्व
और विलीन होता है
पंच तत्वों में

('भोजपत्र' शीर्षक कविता संग्रह से)

3 टिप्‍पणियां:

  1. Mam, Main Sunita Jhingran sarvarpratham main kshamaprarthi hoon ki English me type kar rahi hoon, is blog pe Hindi me type Karna abhi mujhe nahi aata. Aur Mera beta mere shabdon ko type kar raha hai. Aapko Mera pranaam hai, ki aapka bada khaas achievement hai. Maine "LAYA VILAYA" kabhi sunita aur jhoom gayi. Kya gehrayi hai aapke khayalon me. Main chhahti hoon ki aapki Rachna ko swarbaddh karoongi, to isse sangit aur sahitya ka sammishran ho aur mujhe khushi hogi ki aapse Jud sakoon. Madhu Chaturvedi ji ko Maine apna sahil maana hai, aur wo mere liye param adarniya badi behan Jaisi hain. Main unki aabhari hoon ki aapke Jaisi shakhsiyat se mujhe milwaya.
    Kabhi surf ek kavita padha hai, to it a bada post likhwa rahi hoon, kabhi aur kavitayen aapko padhoongi to aur man machal jayega. :)






    उत्तर देंहटाएं
  2. Apne apna card diya tha jispe aapka videshi no hai. Main Whatsapp pe aapse kaise judoon,ya aap mujhe add kar lein 09305368173. Dhanyavad.

    उत्तर देंहटाएं
  3. Apne apna card diya tha jispe aapka videshi no hai. Main Whatsapp pe aapse kaise judoon,ya aap mujhe add kar lein 09305368173. Dhanyavad.

    उत्तर देंहटाएं