बुधवार, 12 मार्च 2014

।। प्रणय मोक्ष ।।


















प्रेम
रंग नहीं,
पानी नहीं,
उजाला नहीं,
अँधेरा नहीं,
शीतलता नहीं,
सुगंध है
सिर्फ अनुभूति भर के लिए ।

प्रेम
प्रकृति नहीं,
सृष्टि नहीं,
समुद्र नहीं,
सूर्य नहीं,
चंद्र नहीं,
पवन नहीं,
सौंदर्य है
सिर्फ सुख के लिए ।

प्रेम
साँस नहीं,
धड़कन नहीं,
चेतना नहीं,
स्पर्श नहीं,
स्पंदन नहीं,
अभिव्यक्ति नहीं,
देह नहीं,
सिर्फ आत्मा है
परम तृप्ति और मोक्ष के लिए ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें