शुक्रवार, 14 मार्च 2014

।। स्वदेश बिछोह ।।


















स्वदेश बिछोह में
शून्य-सा सन्नाटा
छूट जाता है साँसों के तलवों से
प्रलय-घोष के समानार्थक
धड़कती हैं धड़कनें ।

आँखों के सूरज में है
एक धब्बा अँधेरा
पूर्ण सूर्यग्रहण-सा ।

आँखों के आँसू
नहीं भर पाते
शून्य की शुष्कता
प्रणय वसुधा की प्राण-वायु से
जी हुई साँसों को
नहीं जिला पाती हैं
विदेशी फ्रेगरेंट हवाएँ ।

अनुपस्थिति का शून्य
आँखों की पृथ्वी में
अंधेपन की तरह है
होंठों पर
गूँगेपन की भाषा है ।

कानों में नहीं गूँजती है
कोई अनुगूँज ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें