मंगलवार, 15 अप्रैल 2014

।। आस्था के अक्षत ।।

सूर्य को
सौंप देती हूँ तुम्हारा ताप

नदी को
चढ़ा देती हूँ तुम्हारी शीतलता

हवाओं को
सौंप देती हूँ तुम्हारा वसंत

फूलों को
दे आती हूँ तुम्हारे ओंठों की रंगत

वृक्षों को
तुम्हारे स्पर्श की ऊँचाई

धरती को
तुम्हारा सोंधापन

प्रकृति को
समर्पित कर आती हूँ तुम्हारी साँसों की छुअन

वाटिका में
लगा आती हूँ तुम्हारे विश्वास का अक्षय वट

तुम्हारी छवि से
बनाती हूँ प्रेम की कोमल छवि
चुपचाप कहने आती है जो
तुम्हारी भोली अनजी आकांक्षाएँ
तुम्हारे मीठे अनजाने स्वप्न
तुम्हारे दिवस का एकांत एकालाप
तुम्हारी रातों का एकाकी करुण विलाप

मंदिर की मूर्ति में
दे आती हूँ तुम्हारी आस्था
ईश्वर में
ईश्वरत्व की शक्ति भर पवित्रता
तुमसे मिलने के बाद ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें