सोमवार, 14 जुलाई 2014

नीदरलैंड में अंतर्राष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन

नीदरलैंड में डॉक्टर पुष्पिता अवस्थी की देख-रेख में काम कर रही संस्था हिंदी यूनीवर्स फाउंडेशन ने भारत में डॉक्टर दिवाकर भट्ट द्धारा संस्थापित संस्था 'आधारशिला' के साथ मिलकर नीदरलैंड में अंतर्राष्ट्रीय हिंदी सम्मलेन का आयोजन किया । नीदरलैंड के प्रमुख शहर द हेग में महात्मा गाँधी केंद्र में आयोजित हुए इस सम्मेलन में भारतीय राजदूत राजेश नंदन प्रसाद मुख्य अतिथि थे तथा द हेग के उपमहापौर रॉबिन बलदेव सिंह ने सम्मेलन की अध्यक्षता की । 'विश्व में हिंदी भाषा परिवार का अस्तित्व और अस्मिता' सत्र की अध्यक्षता भारत सरकार के प्रवासी भारतीय सम्मान तथा नीदरलैंड के 'डच नाइट हुड' सम्मान से सम्मानित राम लखीना ने की । डॉक्टर दिवाकर भट्ट ने इस सत्र का संचालन किया । डॉक्टर मृदुला जोशी, डॉक्टर बीएस नेगी, डॉक्टर सुनील कुमार जोशी, डॉक्टर कृष्ण कुमार, डॉक्टर महेंद्र अग्रवाल, सुनील शाह आदि ने चर्चा में भाग लिया । सम्मेलन के दूसरे सत्र की अध्यक्षता यूरोप की प्रवासी भारतीय संस्था एफसीसीआई के अध्यक्ष डॉक्टर जसबीर सिंह ने की । नीदरलैंड में हिंदी शिक्षिका और 'संवाद' की निर्देशिका डॉक्टर अनैत फ़ॉन द हुक ने अंतर्राष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन के महत्व को तथा विदेशी नागरिकों के बीच हिंदी के पठन-पाठन की समस्या को विस्तार से विश्लेषित किया । इस सत्र में विज्ञान व्रत, लक्ष्मी खन्ना सुमन, डॉक्टर महेंद्र प्रसाद बुधलाकोटी, गिरीश रंजन तिवारी, डॉक्टर मृदुला झा, डॉक्टर बैकुंठनाथ, प्रियम्बदा चौबे आदि ने भी अपने विचार रखे । सत्र के अंत में महात्मा गाँधी केंद्र के निदेशक विनय चौबे के सौजन्य से पंडित रणजीत सेन गुप्ता का सरोदवादन हुआ । सम्मेलन में महत्वपूर्ण हिंदी सेवियों को सम्मानित भी किया गया । कवि सम्मेलन के साथ अंतर्राष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन का समापन हुआ । इस पूरे आयोजन में हिंदी यूनीवर्स फाउंडेशन की निदेशिका डॉक्टर पुष्पिता अवस्थी की बहुआयामी सक्रियता रही । देश-विदेश से आये अतिथियों को उचित मान-सम्मान दिलाने की व्यवस्था से लेकर सम्मेलन में होने वाले विचार विमर्श में उन्होंने गहन दिलचस्पी ली तथा सम्मलेन को सफल बनाने में अपना अप्रतिम सहयोग दिया ।
सम्मलेन की कुछेक तस्वीरें हमें मिली हैं, जिन्हें आप यहाँ देख सकते हैं :
 
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें