।। उसकी होकर ।।


















एकांत में 
अपनी आँखों में 
महसूस करती है    प्रिय की आँखें 

अकेलेपन में अपने 
अनुभव करती है   प्रिय के ओंठों का स्वाद 
उसके शब्दों की स्मृति की होकर 

निज-शब्दों की स्मृति में 
गूँथती है प्रिय की अनकही 
प्रणय अभिव्यंजना 

उसकी स्पर्शाकांक्षा में 
जीती है    प्रिय की प्रणयाभिलाषा 

अकेले ही 
उसकी होकर 
सुनती है 
प्रिय के शब्द 
और चुप हो जाती है 
संप्रेषण के लिए 
प्रिय को 
ऐसे ही 
संबोधित करने 
और 
जीने के लिए ।   

(हाल ही में प्रकाशित कविता संग्रह 'भोजपत्र' से)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। सच ।।