।। आकांक्षा का अल्पना-लोक ।।

























एकनिष्ठ पूजा के लिए
रचा है मूर्ति को
कल्पना का एक
अद्भुत अल्पना-लोक
जहाँ सिर्फ अनुभूति सुख है
आत्मीय बूँदों का

तुम्हारी साँसें
तैरने लगती हैं
मेरी मन साँसों में
मछलियों की तरह
और धोती हैं
अपना रुपहला वर्ण
और रंगीन चंचलता

मेघों के बीच से
आती हुई धूप
धरती पर
रचती है  मेघ का छाया वृक्ष
जैसे तुम्हारी आवाज
मेरे भीतर तुम्हें ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। सच ।।