गुरुवार, 9 अक्तूबर 2014

।। क्रिया-कर्म ।।


आदमी
आहिस्ता-आहिस्ता
खत्म करता है
एक स्त्री के भीतर का
स्त्रीत्व

चूमता है देह
सोख लेता है
देह का देहपन
कि धूमिल होने लगता है
स्त्री का स्त्रीत्व

धीरे-धीरे
काटता-छाँटता है दिमाग
तराशता है दिल
उसकी उम्र ढलने से पहले ही
कुतरता है आत्मा
कि आत्महीन होकर
गिर जाती है अपनी ही देह-भीतर
                       लाश की तरह

जैसे उसकी देह ही
ताबूत हो उसका ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें