गुरुवार, 9 मई 2013

।। अपनापन ।।

























शब्द तुम्हारे
हल्दी की गाँठ
रक्त जल में
उतरता है रंग ।

शब्द तुम्हारे
आषाढ़ी मेघ
आस्था की माटी में
रमती है सोंधी नमी ।

शब्द तुम्हारे
सहस्त्र पँखुरी-पुष्प
आँखों के आकाश में
उगता है युग वसंत ।

शब्दों की आँखों से
पीती हूँ उजाला
आला भर
अँधेरे से सूने
डरे घबराये वक्ष के लिए ।

तुममें घुले बगैर
जानना कठिन है प्यार का अपनापन
आँखों में समा जाता है जैसे सब कुछ
वैसे ही तुममें
मेरा हर कुछ ।

ऊँगलियों पर दिन गिनने में
आँखें भूल जाती हैं नाखून काटना
बढ़े हुए नाखून
काटते हैं समय-सुरंग
शकटार की तरह ।

मन की अंजलि में
स्मृतियों की परछाईं हैं
जो घुलती हैं
आत्मा की आँखों में
और आँसू बनकर
ठहर जाती हैं
कभी आँखों के बाहर
कभी आँखों के भीतर ।

मन के अधरों में
धरा है प्रणयामृत
शब्द बनकर
कभी ओठों से बाहर
कभी ओठों के भीतर ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें