दो छोटी कविताएँ

























।। प्रेम का ईश्वर ।।

ओंठ
देह-भीतर
गढ़ते हैं एक देह

जिसे
हम-सब
प्रेम का ईश्वर
कहते हैं ।

।। एकल अनुभूति ।।

प्रणय
परकाया प्रवेश-साधन
देहान्तरण में रूपान्तरण की
अन्तरंग साधना

प्रणयानुभूति में
द्धिजत्व की एकल अनुभूति ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। अंतरंग साँस ।।