।। मेघ-मल्हार ।।



















प्रिय
बादल की तरह
भरता है अपने वक्ष में
मेघ की तरह झरता-बरसता है

प्रेम
प्रिय के भीतर ही
फलता है
फूलता है

इसके पूर्व तक
रिक्त और रिक्त
कभी रेगिस्तान की तरह
कभी आकाश की तरह ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। सच ।।