।। मौन ।।

प्रेम में
अपनी आँखों में
देखती है वह - प्रिय के नयन
और अनुभव करती है - सुख
- गिरा अनयन, नयन बिनु बानी -
अपने ही अधरों में
अनुभव करती है - प्रिय-प्रणय-स्वाद

अपने शब्दों की
व्यंजना में महसूस करती है -
प्रिय-प्रणय-अभिव्यंजना ...

अपनी स्पर्शाकांक्षा में
सुनती है - प्रिय के शब्द
और चुप हो जाती है
संप्रेषण के लिए - प्रिय को
प्रिय की तरह
मौन ही  

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। अंतरंग साँस ।।