गुरुवार, 18 जुलाई 2013

।। अग्निगर्भी शक्ति ।।


















धूप में
बढ़ाती हूँ
अपनी आत्मा की अग्निगर्भी दीप्ति
तुम तक पहुँचती हूँ तुम्हारे लिए ।

अक्षय प्रणय प्रकाश
तुम्हारी मन-खिड़की से
पहुँचता होगा निकट से निकटतर
कि नैकट्य की
नूतन परिभाषाएँ रचती होंगी
तुम्हारी अतृप्त आत्मा ।

वृक्ष को सौंपती हूँ
वृक्ष की अंतस अनुभूतियाँ
अपनी धड़कती आकांक्षाएँ
जो तुम तक
मेघदूत बन
पहुँचता है
गहरी आधी रात गए ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें