।। चुपचाप ।।


















आँखों के भीतर
आंसुओं की नदी है ।
पलकें मूँदकर
नहाती हैं आँखें ।
अपने ही आँसुओं की नदी में
दुनिया से थककर ।

ओठों के अंदर
उपवन है,
जीते हैं ओठ ।
चुप होकर स्मृति
प्यास से जलकर
एकाकीपन की आग में ।

ह्रदय की वसुधा में
प्रणय का निर्झर नियाग्रा है
मेरे लिए ही झरता हुआ ...।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। सच ।।