।। दस्तक ।।


















दरवाज़े
बने होते हैं
दस्तकों के लिए ।

दस्तक से
तड़प उठते हैं
किवाड़ के रोम-रोम ।

दरवाज़े
सुनना जानते हैं दस्तक
पर चुप रहते हैं
गरीब के सपनों की तरह ।

दरवाज़े
जानते हैं
दस्तकों की भाषा ।

सुनवाई
न होने पर
दरवाज़े छोड़ देते हैं दीवारें
और दीवारों के घर ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। सच ।।