।। सब कुछ ।।



















धूप
निचोड़ लेती है
देह के रक्त से पसीना ।

माटी के बीज
बीज से पत्ते
पत्ते से वृक्ष
और वृक्ष से
निकलवा लेती है धूप
सब कुछ ।

धूप
सब कुछ सहेज लेती है
धरती से
उसका सर्वस्व
और सौंप देती है प्रतिदान में
अपना अविरल स्वर्णताप
कि जैसे
प्रणय का हो यह अपना
विलक्षण अपनापन ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। सच ।।