।। बच्चों के खेल ।।















 बच्चे
देखे गए सपनों से
निकालते हैं   नए सपने
जैसे
उसी कपड़े से निकालते हैं   धागा
फटे के रफू के लिए ।

बच्चे
मोर पंख में
देखते हैं   मोर
और पिता में परमपिता ।

पिता ही परमेश्वर
और माँ सर्वस्व ।

काग़ज़ की
हवाई जहाज की फूँक उड़ान में
उड़ते देखते हैं   अपने स्वप्नों का जहाज ।
रेत के घरौंदे में
देखते हैं   अपना पूरा घर ।

वे
खेल खेल में
खेलते हैं  जीवन
और
हम सब
जीवन में खेलते हैं   खेल ।

(नए प्रकाशित कविता संग्रह 'गर्भ की उतरन' से)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। अंतरंग साँस ।।