रविवार, 31 जुलाई 2016

।। अंतरंग-आवाज ।।

नदी को
नदी की तरह सुनो
सुनाई देगी   नदी
अपनी अंतरंग आवाज़ की तरह

चाँद को
चाँद की तरह देखो
दिखाई देगी चाँदनी
अपनी आँख की तरह

धरती को
धरती की तरह अनुभव करो
महसूस होगी   पृथ्वी
अपनी तृप्ति की तरह

प्रकृति को
प्रकृति की तरह स्पर्श करो
तुममें अवतरित होगी   वह
आह्लाद की तरह ।

(नए प्रकाशित कविता संग्रह 'गर्भ की उतरन' से)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें