मंगलवार, 26 जुलाई 2016

।। सजल ।।

उसने
अपनी माँ का
बचपन नहीं देखा
पर
बचपन से देखा है उसने
अपनी माँ को

जब से
समझने लगी है
अपने भीतर का सब कुछ
और
बाहर का थोड़ा-थोड़ा

लगता है
उसकी माँ की तरह की औरत
आकार लेने लगी है   उसके भीतर
वैसे ही
गीली रहती हैं   आँखें
वैसे ही
छुपाकर रोती है    वह ।

(नए प्रकाशित कविता संग्रह 'गर्भ की उतरन' से)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें