शुक्रवार, 12 सितंबर 2014

।। कसक-कथा ।।

























प्रेम
मन का शब्द
देह का मौन

प्रेम
मन का चैन
देह का सुख

प्रेम
मन की निश्चलता
देह की चंचलता

प्रेम
मन का ग्लेशियर
देह का लावा

प्रेम
मन की गुप्त गोदावरी
देह का प्रपात

प्रेम
मन की तरल सुगंध
देह का भीना लावण्य

प्रेम
मन की मंजूषा
देह की मंजरी

प्रेम
मन का स्पंदन
देह का विकल क्रन्दन

प्रेम
मन की निर्मल अकुलाहट
देह की पवित्र अभिव्यक्ति

प्रेम
मन की शीतलता
देह का धवल ताप ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें