बुधवार, 23 अक्तूबर 2013

।। माँ ।।

























पृथ्वी छोड़कर
माँ के जाने पर भी
माँ बची रहती है
संतान की देह में ।

संतान की देह
माँ की पृथ्वी है
माँ के देह त्यागने पर भी ।

माँ के जाने पर भी
माँ बची रहती है
प्राण बन कर ।

कठिन समय में
शक्ति बनकर
बची रहती है माँ ।

माँ के जाने पर भी
बचपन की स्मृतियों में
बची रहती है माँ ।

माँ अपने जाने पर भी
बची रहती है
अपनी संतानों में
शुभकामनाएँ बन कर ।

माँ जाने पर भी
कभी नहीं जाती है
बच्चे बूढ़े हो जाएँ फिर भी ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें