।। समय के विरुद्ध ।।

























रेत में
चिड़िया की तरह
उड़ने के लिए फड़फड़ाती ।

नदी में
मोर की तरह
नाचने के लिए छटपटाती ।

आकाश में
मछली की तरह
तैरने के लिए तड़पती ।

विरोधी समय में
मनःस्थितियाँ जागती हुई
जीती है अँधेरे में
उजाले के शब्द के लिए ।

शब्द से फैलेगा उजाला
अँधेरे समय के विरुद्ध ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। सच ।।