।। हथियार ।।


















कविता को
रचना है हथियार
सारे हथियारों के विरुद्ध
अपनी भाषा में ।

बिना युद्ध किए
जीतने हैं सभी युद्ध
आज की
सभी भाषाओँ को ।

धर्म के भीतर
बचाना है धर्म
बिना ईश्वर के । 

सारे धर्मों से बाहर निकालना है धर्म को
ईश्वर नहीं
आदमी के पक्ष में
कविता को
अपनी भाषा में
फिर वह कोई भी भाषा हो … ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। सच ।।