शुक्रवार, 20 दिसंबर 2013

।। अंतर्ध्वनि ।।

























औरत
चुप रही
दुनिया बोलती रही ।

ऐसे ही
एक सदी बीत गई ।

औरत
सुनती रही है
दुनिया के खोखले
और डरावने शब्द ।

बच्चे
जिन्हें मुखौटा कहते हैं ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें