।। अंतर्ध्वनि ।।

























औरत
चुप रही
दुनिया बोलती रही ।

ऐसे ही
एक सदी बीत गई ।

औरत
सुनती रही है
दुनिया के खोखले
और डरावने शब्द ।

बच्चे
जिन्हें मुखौटा कहते हैं ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। सच ।।