रविवार, 25 अगस्त 2013

।। स्नेह-ग्रंथ ।।

























देह
नेह-ग्रंथ है
अधर
पृष्ठ-दर-पृष्ठ पर
लिखते हैं
बोले हुए अनबोले शब्द
चुपचाप
कि
बिछोह के व्याकुल क्षणों में
फड़फड़ाती है देह
शब्द-पक्षी की तरह

शब्द
उड़ जाना चाहते हैं
प्रिया के देह-पृष्ठ से
प्रिय के देह-पृष्ठों से
गुँथने के लिए ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें