सोमवार, 26 अगस्त 2013

।। प्रकाश-सूर्य ।।

























मौन प्रणय
लिखता है शब्द
एकात्म मन अर्थ

मुँदी पलकों के
एकान्त में
होते हैं स्मरणीय स्वप्न

प्रेम
उर-अन्तस में
पिरोता है स्मृतियाँ
               स्मृतियों में राग
               राग में अनुराग
               अनुराग में शब्द
               शब्द में अर्थ
               अर्थ में जीवन
               जीवन में प्रेम
               प्रेम में स्वप्न

प्रणय-रचाव शब्दों में
होता है सिर्फ प्रेम
जैसे सूर्य में सिर्फ
प्रकाश और ताप ! 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें