।। कभी मेघबूँद ।।




















नदी के
द्धीप वक्ष पर
लहरें लिख जाती हैं
नदी की हृदयाकांक्षा
जैसे - मैं

सागर के
रेतीले तट पर
भँवरें लिख जाती हैं
सागर के स्वप्न भँवर
जैसे - तुम

पृथ्वी के
सूने वक्ष पर
कभी ओस
कभी मेघबूँद
लिख जाती है
तृषा-तृप्ति की
अनुपम गाथा
जैसे - मैं ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। अंतरंग साँस ।।