।। प्रकाश-सूर्य ।।


















मौन प्रणय
लिखता है शब्द
एकात्म मन-अर्थ

मुँदी पलकों के
एकांत में
होते हैं स्मरणीय स्वप्न

प्रेम
उर-अन्तस में
पिरोता है स्मृतियाँ
          स्मृतियों में राग;
          राग में अनुराग;
          अनुराग में शब्द;
          शब्द में अर्थ;
          अर्थ में जीवन;
          जीवन में प्रेम;
          प्रेम में स्वप्न;

प्रणय-रचाव-शब्दों में
होता है सिर्फ प्रेम
जैसे सूर्य में सिर्फ प्रकाश और ताप ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। अंतरंग साँस ।।