गुरुवार, 25 दिसंबर 2014

।। मन-माटी ।।

















प्रेम
धरती के अनोखे
पुष्प-वृक्ष की तरह
खिला है तुम्हारे भीतर

अधर
चुनना चाहते हैं
वक्ष धरा पर खिले
पुष्प को
जिसमें
तुम्हारी मन-माटी की सुगंध है
अद्भुत ।

तुम्हारे
ओंठों के तट से
पीना चाहती हूँ
प्रेम-अमृत-जल
शताब्दियों से उठी हुई
प्यार की प्यास
बुझाने के लिए ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें