।। प्रणय-वक्ष ।।





















आँखें
साधती हैं एकनिष्ठ
प्रणय-गर्भ में संवेदनाएँ

प्रणय-ऋषि-कानन
रचती हैं अनुभूतियाँ
दुष्यंत और शकुन्तला सरीखे
प्रणय-नव-उत्सर्ग
गंदर्भ-विवाह का आत्मिक संसर्ग

प्रेम के लिए
अपना प्राण सौंपता
तुम्हारा प्रणय-वक्ष
स्वर्ग का एक कोना
जहाँ प्यार के लिए
सर्वस्व - समर्पण ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरीनाम में रहने वाले प्रवासियों की संघर्ष की गाथा है 'छिन्नमूल'

पुष्पिता अवस्थी को कोलकाता में ममता बनर्जी ने सम्मानित किया

।। अंतरंग साँस ।।